अमरीका की आर्थिक मंदी पूरे विश्व में, खासकर भारत जैसे विकासशील देश में आर्थिक मंदी को उत्प्रेरित करने वाली ताकत क्यों और कैसे बन जाती है? यही नहीं, अमरीका की आज की मंदी अपनी ही 1929 की मंदी और 2008 के वित्तीय मेल्ट डाउन से कितनी भिन्न है? अमरीका की […]

इलेक्शन बांड स्कीम को तत्काल बंद करना अति आवश्यक है, क्योंकि अगर इसे तुरंत बंद नहीं किया गया तो देश में लोकतंत्र बिलकुल ख़त्म हो जाएगा. यह देश में लोकतंत्र की रक्षा करने और भ्रष्टाचार की गंगोत्री को मिटाने केलिए शुरू किया गया अभियान है। इसमें एडीआर \ सीएफडी \पीयूसीएल\ […]

नोटबंदी के छह साल बाद भी देश की अर्थव्यवस्था और आम आदमी की जेब पर नोटबंदी का कहर जारी है। कहा गया था कि नोटबंदी काले धन की अर्थव्यवस्था को समाप्त करेगी। यदि नोटबंदी काले धन की अर्थव्यवस्था को समाप्त करने में सफल भी होती तो क्या यह असंगठित क्षेत्र […]

किसी व्यक्ति के जीवन की महत्ता और अर्थवत्ता पर ही उसके नाम पर लगने वाले नारों की गुणवत्ता निर्भर करती है। इसलिए अक्सर जब गांधीजी के नाम पर नारे लगते हैं, तो लगता है कि इसके पीछे जरूर कुछ ठोस कारण होंगे, जो लोगों को प्रभावित करते हैं. कई बार […]

शान्ति ईश्वरीय वैभव है। सर्वकल्याणकारी मार्ग अथवा माध्यम है। ईश्वर अविभाज्य समग्रता रूप हैं। कुछ भी, कोई भी, उनकी परिधि से बाहर नहीं है। वे स्वयं सार्वभौमिक एकता निर्माता हैं। अतः शान्ति एकांगी नहीं हो सकती। सामान्य और अति सरल अर्थ में शान्ति को स्थिरता अथवा ठहराव की स्थिति स्वीकारा […]

आजादी के साथ-साथ भारत का बंटवारा एक ऐसा दर्द था, जो आज भी देशवासियों के मन में टीसता है। बंटवारा क्यों हुआ, उस समय के हालात कैसे थे, अंग्रेजों ने क्या चाल चली, जिन्ना-नेहरू की क्या भूमिका थी, अनेक सवाल पूछे जाते हैं। यद्यपि बंटवारे को स्वीकार क्यों किया गया, […]

भारतीयों के ऊपर आज हिमालय बचाने के साथ ही हिन्द महासागर बचाने का भी जिम्मा आ गया है. तिब्बत के मुक्ति साधकों ने अनेक कठिनाइयों के बावजूद 1959 से 2022 के बीच की लम्बी अवधि में दुनिया के हर महाद्वीप में अपनी पीड़ा का सच फैला दिया है. इसी के […]

यह विशाल जनसमूह!! ये वोटर नहीं हैं, ये कार्यकर्ता और समर्थक नहीं हैं, ये मुग्ध श्रोता भी नहीं हैं। यह उन्मादित गर्वीलों का जमावड़ा नही है, यह दीन-हीन और आर्थिक-सामाजिक रूप से निचुड़ चुका राष्ट्र है। आजादी की बेला, बरसों का स्वप्न, खुली हवा में सांस औऱ ऊपर लहराता तिरंगा! […]

गुरदासपुर मिला तो भारत को कश्मीर से सड़क-संपर्क प्राप्त हो गया, इस कहानी में औपचारिक रूप से नेहरू तो क्या माउंटबेटन का भी सीधे-सीधे नाम लेना मुश्किल है। नोएल-बेकर हों, या पाकिस्तानी सत्ता-प्रतिष्ठान, माउंटबेटन पर पक्षपात का सीधा आरोप नहीं लगा सकते। अधिक से अधिक यही कर सकते हैं कि […]

नेहरू को जो गाली दे, उसे बिना कांटों वाला गुलाब देकर शर्मिंदा करें. यह देखकर हमारे महबूब नेता जवाहरलाल नेहरू मंद-मंद मुस्काएँगे। सरदार पटेल ने कहा था कि– “यह स्वाभाविक ही था कि स्वतंत्रता की अल्लसुबह के धुंधलके उजास में वे हमारे प्रकाशमान नेतृत्व बनें.” क्या आप जानते हैं सरदार […]

क्या हम आपकी कोई सहायता कर सकते है?