महर्षि अरविंद ने भी विश्व राज्य का स्वप्न देखा और विनोबा भी सब राष्ट्रों के एक परिवार के अभिलाषी हैं। इसके लिए परस्परावलंबन के विचार को अपनाना होगा। समत्व के लिए विनोबा का यह तर्क है कि उंगलियों की समानता जितना समत्व तो साधना ही चाहिए। समाज की पंच शक्तियों […]

वैश्विक तापमान में वृद्धि और इसके परिणामस्वरूप जलवायु में परिवर्तन। निःसंदेह, इस वृद्धि और परिवर्तन के कारण स्थानीय भी हैं, किंतु राजसत्ता अभी भी ऐसे कारणों को राजनीति और अर्थशास्त्र के फौरी लाभ के तराजू पर तौलकर मुनाफे की बंदरबांट में मगन दिखाई दे रही है। जन-जागरण के सरकारी व […]

बाबा का कहना था कि ग्रामोद्योगों से आप कहते हैं वे अपने पैरों पर खड़े रहें। यह तो वही बात हुई कि आप मेरी टांगें तोड़ देते हैं और फिर टांगों पर खड़े रहने को भी कहते हैं। आप शाबाशी दें कि फिर भी हम हाथों के बल चल कर […]

25 जून 1975 को जेपी का ऐतिहासिक भाषण वर्तमान को समझने के लिए इतिहास को समझना ज़रूरी 25 जून 1975 को देर शाम दिल्ली स्थित रामलीला मैदान में विपक्षी दलों की एक रैली हुई थी, जिसे लोकनायक जय प्रकाश नारायण ने सम्बोधित किया था. जेपी ने देश की जनता को […]

बहुत से लोग बाबा से सवाल पूछते थे कि अहिंसा क्या मानव तक ही सीमित है। बाबा कहते थे कि मनुष्य को अपनी चित्तशुद्धि के लिए मांसाहार छोड़ देना चाहिए। अगर आप दुनिया में शांति चाहते हैं, तो प्राणियों का आहार आपको छोड़ना पड़ेगा। यह कहते हुए बाब कहा करते […]

अगर हम देश का संरक्षण सशस्त्र सेनाओं पर छोड़ दे रहे हैं और शांति सेना का काम नहीं कर रहे हैं तो सर्वोदय और अहिंसा की आबरू खतरे में है, इसीलिए बाबा आजकल शांतिसेना की बात पर अधिक जोर देने लगे हैं. अक्सर माना गया है कि बीमारी में अगर मनुष्य […]

बाबा को भिक्षा मांगने की आदत नहीं। बाबा तो सभी को दीक्षा देने आया है। काहे की दीक्षा! प्रेम जीवन की दीक्षा। सारा गांव एक परिवार बनकर रहे। जमीन सबके लिए है, उसको सबके पास पहुंचाए। बाबा अभी तक भूमिदान लेते थे, लेकिन अब संपत्तिदान भी लेने लगे। संपत्ति में […]

बाबा विनोबा भूदान के काम को राष्ट्रीय आंदोलन नहीं, बल्कि जागतिक आंदोलन मानते थे। आंदोलन से भी आगे बढ़कर इसे आरोहण मानते थे. आरोहण में हम एक एक शिखर चढ़ने की कोशिश करते हैं। वही इसमें भी हो रहा है। बाबा विनोबा का मानना था कि मुझे भय नहीं, निर्भयता […]

जमीन के वितरण से लेकर भगवद्भक्ति तक का पंचविध कार्यक्रम सच्चे अर्थों में ग्रामराज्य, रामराज्य, लोकराज्य या स्वराज्य का स्वरूप होगा।  दुनिया तृषित होकर शांति की तीव्र खोज में है। सबसे पहले अधिष्ठान को लें तो भूमि अधिष्ठान है, जिसका विषम बंटवारा ही समाज रचना की सारी अच्छाइयों को नष्ट कर रहा है। ऐसे […]

भूदान से करुणा का एक छोटा सा प्रवाह निकला, लेकिन जब वह प्रवाह समुद्र में आया, तब उसे समुद्र का रूप मिला। ग्रामदान एक समुद्र और भूदान एक नदी है। बाबा का भूदान यज्ञ नदी के जरिए समुद्र में प्रवेश कर रहा था. आज 23 मई का दिन बहुत पावन दिन […]

क्या हम आपकी कोई सहायता कर सकते है?