गोपालकृष्ण गांधी ने दी ‘सांप्रदायिक नफरत के जहर’ के खिलाफ चेतावनी

पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल और राजनयिक गोपालकृष्ण गांधी ने कहा है कि जब देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है, तो किसी को सांप्रदायिक नफरत का जहर फैलते हुए नहीं देखना चाहिए. उन्होंने एचवाई स्मारक व्याख्यान देते हुए यह टिप्पणी की। व्याख्यान का विषय था ‘कैदी संख्या 8677: 1922 और 1924 के बीच यरवदा जेल में मोहनदास करमचंद गांधी। उन्होंने बताया कि 15 अप्रैल, 1924 को द हिंदू को दिए एक साक्षात्कार में महात्मा गांधी ने कहा था कि अहिंसक आंदोलन के प्रति जो प्रतिबद्ध हैं, वे बिना नेतृत्व के भी चल सकते हैं। आगे का रास्ता संकरा, लेकिन सीधा है और इसलिए आसान है।

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी को 1922 में पहली जेल की सजा कांग्रेस पार्टी या जन नेता के रूप में नहीं, बल्कि यंग इंडिया में लिखे एक लेख के कारण हुई थी। यहां तक कि लोकमान्य तिलक को भी 1908 में अपनी पत्रिका केसरी में एक लेख के लिए जेल में डाल दिया गया था।
उन्होंने कहा कि हमारे समय का यह महत्वपूर्ण विचलन है, जब दुनिया के कई हिस्सों में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर दबाव है। गोपाल कृष्ण गांधी ने कहा कि हमारा तीसरा प्रमुख निष्कर्ष स्वराज को संरक्षित करने की आवश्यकता है, जो असहयोग आंदोलन के माध्यम से जीता गया था। गांधीजी ने भारत और दक्षिण अफ्रीका के अपने कारावासों में कुल 2,335 दिन बिताए और कुछ ऐसे जेल सुधारों का आह्वान किया, जो मानवीय शालीनता के अनुकूल हों।

-सर्वोदय जगत डेस्क

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज का मामला राजभवन पहुंचा

Fri May 20 , 2022
28 सालों से चल रह है सत्याग्रह   केन्द्रीय जनसंघर्ष समिति पिछले 28 सालों से नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज, टूडरमा डैम व पलामू व्याघ्र परियोजना से संभावित विस्थापन के खिलाफ चल रहे आन्दोलन का नेतृत्व कर रही है। एकीकृत बिहार के समय 1954 में मैनूवर्स फील्ड फायरिंग आर्टिलरी प्रैटिक्स एक्ट-1938 […]
Open chat
क्या हम आपकी कोई सहायता कर सकते है?