भूदान डायरी; विनोबा विचार प्रवाह : कुदाल और फावड़ा उठाओ, खुद को इन दिव्य आयुधों से सजाओ

हम सभी को हाथ में कुदाली, झाड़ू, खपरा और फावड़ा उठा लेना चाहिए। जब हम इन दिव्य आयुधों से सजेंगे तो हमें अच्छा कार्य करने की प्रेरणा होगी। 

बाबा विनोबा का आवाहन था कि हम सभी को हाथ में कुदाली, झाड़ू, खपरा और फावड़ा उठा लेना चाहिए। जब हम इन दिव्य आयुधों से सजेंगे तो हमें अच्छा कार्य करने की प्रेरणा होगी। जब भगवान कोई अच्छा काम करवाना चाहते हैं, तो इसी प्रकार के औजार लेकर वे अवतरित होते आए हैं। इन आयुधों के साथ काम शुरू करते ही भगवान हमको सफलता जरूर देगा, क्योंकि इस काम में असफलता ईश्वर को कभी अपेक्षित ही नहीं है। ईश्वर ही यह सब कहलवाता है और वही यह काम पूरा करनेवाला है, ऐसा विश्वास रखकर और प्रतिज्ञा लेकर हम काम करें।                     इस पुनीत कार्य की एक शर्त है कि हममें एक दूसरे के प्रति अपार प्रेम होना चाहिए। परायापन हरगिज न हो। मनुष्य को अपने निज से जो प्रेम होता है, वह निरुपचार होता है, यानी उस प्रेम में कहीं उपचार नहीं होता, उसमें कहीं भी दिखावटीपन  नहीं होता। वह बिल्कुल भीतर पैठा हुआ प्रेम होता है। हम दूसरों से वैसा ही प्रेम करें। यह बात अगर हमने संभाल ली तो  बाकी सब ईश्वर संभालेगा। बाबा का कहना था कि मैं एक मार्ग का प्रयोगी हूं। अहिंसा की खोज करना बहुत वर्षों से मेरे जीवन का कार्य रहा है और मेरी शुरू की हुई प्रत्येक कृति, हाथ में लिया हुआ और छोड़ा हुआ प्रत्येक काम, सब उसी प्रयोग के लिए हुए और आगे हो रहे हैं। विभिन्न संस्थाओं की सदस्यता त्याग देने में भी मेरी दृष्टि अहिंसा की खोज करने की ही रही। अहिंसा का विकास करने के लिए मुक्त ही रहना चाहिए। मुक्त का मतलब कर्ममुक्त या कार्यमुक्त नहीं, विभिन्न संस्थाओं के कामकाज से मुक्त रहना है। बाबा तो यहां तक कहते थे कि अहिंसा के पूर्ण प्रयोग के लिए तो वास्तव में देहमुक्त ही होना चाहिए। जब तक यह स्थिति नहीं आती, तब तक जितना संभव हो देह से, संस्थाओं से और पैसे से अलग रहकर काम करने की योजना होनी चाहिए।

अहिंसा की खोज करना बहुत वर्षों से मेरे जीवन का कार्य रहा है और मेरी शुरू की हुई प्रत्येक कृति, हाथ में लिया हुआ और छोड़ा हुआ प्रत्येक काम, सब उसी प्रयोग के लिए हुए और आगे हो रहे हैं। विभिन्न संस्थाओं की सदस्यता त्याग देने में भी मेरी दृष्टि अहिंसा की खोज करने की ही रही। अहिंसा का विकास करने के लिए मुक्त ही रहना चाहिए। मुक्त का मतलब कर्ममुक्त या कार्यमुक्त नहीं, विभिन्न संस्थाओं के कामकाज से मुक्त रहना है।

भूदान के काम में केवल भूमिदान प्राप्त करने का बाबा का प्रयोग नहीं है। निस:देह भूमिदान बहुत बड़ी वस्तु है, पर बाबा की मुख्य कल्पना यही है कि समाज की सामाजिक और व्यक्तिगत सब प्रकार की कठिनाइयों का परिहार अहिंसा से कैसे होगा, इसकी खोज करूं। बाबा इसी मुख्य कार्य के लिए तेलंगाना गया था। वहां जाने पर बाबा की भूमिका एक शांतिसैनिक की ही थी। यदि बाबा वहां  जाने का कार्यक्रम टालता तो इसका अर्थ यही होता कि बाबा ने अहिंसा और शांतिसेना का काम करने की अपनी प्रतिज्ञा ही तोड़ दी। – रमेश भइया

Co Editor Sarvodaya Jagat

One thought on “भूदान डायरी; विनोबा विचार प्रवाह : कुदाल और फावड़ा उठाओ, खुद को इन दिव्य आयुधों से सजाओ

  1. विनोबा भावे जी के संबंध में आध्यात्मिक चर्चा और पुण्य स्मरण अविभूत अवश्य करता है.
    जानकारी के लिए बहुत बहुत आभार.
    हमें आज के संदर्भ में जबकि सत्य, प्रेम, करूणा के शाश्वत मूल्यों के विपरीत झूठ , द्वेष और घृणा का प्रायोजित विस्तार हो रहा है. हमें घर घर गांधी-विनोबा के विचारों को ले जाने के लिए महाअभियान के लिए आगे आना ज़रूरी है. जब चारों ओर घृणा-नफ़रत का तांडव नृत्य हो रहा है, स्वागत-सम्मान से बचना-बचाना युग धर्म है. आओ, इस पर चर्चा करें तो सार्थक, सामयिक, साहसी रहेगा. क्षमायाचना सहित सव्यसाची.जय जगत.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

भूदान डायरी; विनोबा विचार प्रवाह : मुझे गरीबों को जमीन दिलवानी ही है- विनोबा

Tue May 3 , 2022
बाबा ने कहा कि रास्ते में एक काम प्रमुख रूप से मेरी नजर के सामने रहेगा। मुझे गरीबों को जमीन दिलवानी है। जो लोग जमीन पर मेहनत कर सकते हैं, उनके पास आज जमीन नहीं है, यह अच्छी बात नहीं। बाबा को तेलंगाना में पोचमपल्ली गांव में 100 एकड़ का […]
Open chat
क्या हम आपकी कोई सहायता कर सकते है?