गढ़वाल सर्वोदय मंडल सर्वोदय सेवक स्वर्गीय मानसिंह रावत की 94 वीं जयंती मनायेगा

गढ़वाल सर्वोदय मंडल की एक गोष्ठी का आयोजन हलदूखाता में हुआ, जिसमें  24 जनवरी 2022 को अंतरराष्ट्रीय जमनालाल बजाज सम्मान से सम्मानित गांधीवादी सर्वोदय सेवक स्वर्गीय मान सिंह रावत जी का 94 वां जयंती समारोह आयोजित करने का निर्णय लिया गया। सभा की अध्यक्षता गढ़वाल सर्वोदय मंडल के अध्यक्ष सुरेन्द्र लाल आर्य व संचालन महासचिव कैप्टन पीएल खंतवाल ने किया।

शशिप्रभा रावत को वीरांगना सावित्री बाई फुले नेशनल फेलोशिप अवार्ड -2021 से सम्मानित किया गया


इस अवसर पर भारतीय दलित साहित्य अकादमी दिल्ली द्वारा सर्वोदय मंडल की संरक्षिका सर्वोदय सेविका शशिप्रभा रावत को वीरांगना सावित्री बाई फुले नेशनल फेलोशिप अवार्ड व गढ़वाल सर्वोदय मंडल के सचिव शूरवीर सिंह खेतवाल को डॉ अम्बेकर राष्ट्रीय फेलोशिप अवार्ड मिलने पर खुशी व्यक्त की गई. यह सम्मान भारतीय दलित साहित्य अकादमी के 37 वें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन पंचशील आश्रम, झरौड़ाकलां बुराड़ी, दिल्ली में अकादमी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. एसपी सुमनाक्षर, पूर्व केंद्रीय मंत्री वयोवृद्ध संघप्रिय गौतम व महाराष्ट्र सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री बब्बन राव घोलप के हाथो प्रदान किए गए। समाजसेवी सत्य प्रकाश थपलियाल द्वारा माता-पिता विहीन विकलांग छात्र मनोज को ₹ 3000/- की आर्थिक सहायता भी प्रदान की गई।
समाजसेवी सत्यप्रकाश थपलियाल ने इस अवसर पर कहा कि वीरांगना सावित्री बाई फुले देश की प्रथम महिला शिक्षिका थीं, जिन्होंने तमाम अपमान, अनादर, उत्पीड़न सहते हुए महिला शिक्षा के द्वार खोल दिए व पुणे में प्रथम महिला विद्यालय खोल दिया। जनार्दन प्रसाद ध्यानी ने कहा कि शशिप्रभा रावत ने हल्दूखाता में बोक्शा बालिका विद्यालय खोलकर सावित्री बाई फुले के विचारों का विस्तार किया है। बैठक में सुरेन्द्र लाल आर्य, कैप्टन पी एल खंतवाल, दीपक कुकरेती, जनार्दन प्रसाद ध्यानी, दिनेश चंद्र ध्यानी, मंजू रावत, वीर सिंह, डॉक्टर सबल सिंह ,डॉक्टर गीता रावत शाह, विनय रावत और दिव्यांशी आदि मौजूद थे।
                                                                                                         -कैप्टन पी एल खंतवाल

Co Editor Sarvodaya Jagat

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

जाति व्यवस्था के उन्मूलन के लिए गांधी जी की भूमिका अतुलनीय थी

Thu Dec 23 , 2021
मैं जीवन भर गांधी का गहन पाठक रहा हूँ। जाति और धर्मनिरपेक्षता पर गांधी का सिद्धांत और उनका निजी और सार्वजनिक व्यवहार मुझे हमेशा हैरान करता रहा है। इसकी वजह स्पष्ट है। गाँधी के अलावा भारत में किसी और ने निजी और सार्वजनिक जीवन में जाति और धर्म पर न […]
Open chat
क्या हम आपकी कोई सहायता कर सकते है?